अग्निपथ योजना के विरोधियों को ही नहीं पता 'अग्निपथ' योजना का मतलब, वीडियो में उगला सच

Lokdesh Desk

केन्द्र सरकार की ओर से देश के युवाओं के लिए लाई गई 'अग्निपथ' योजना के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है, बावजूद इसके कि सरकार इस योजना में कई लाभकारी संसोधन भी कर चुकी है। आयु सीमा बढ़ाने से लेकर तमाम चुनिंदा नौकरियों में आरक्षण देकर चार साल के बाद भी रोजगार से जुड़े रहने की सौगात भी दे चुकी है। लेकिन उम्मीदवारों का प्रदर्शन अभी भी सड़कों और रेलवे ट्रैक पर जारी है। अग्निपथ योजना के विरोध में आज सोमवार को भारत बंद का एलान किया गया और संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति (एसआरएएस) ने सोमवार को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया। योजना का विरोध बिहार उत्तरप्रदेश में मुख्य रूप से देखने को मिल  रहा है।  

प्रदर्शनकारियों को नहीं पता अग्निपथ का मतलब 
अग्निपथ योजना के विरोध में जी जान से जुटे प्रदर्शनकरियों में कुछ तो उम्मीदवार हैं, कुछ विपक्षी दल के नेता हैं, तो कुछ ऐसे व्यक्ति भी शामिल हैं जिन्हे अग्निपथ या अग्निवीर का मतलब भी नहीं पता है। इसकी जानकारी सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो के माध्यम से लगी। बिहार में चल रहे प्रदर्शन के दौरान जब एक मीडियाकर्मी ने धरने पर बैठे एक व्यक्ति से पूछा कि अग्निपथ योजना क्या है तो उसने जबाव दिया कि यह योजना बंद होना ही चाहिए। फिर मीडियाकर्मी ने पूछा कि अग्निपथ का मतलब क्या है तो वह बोला मुझे नहीं पता, मुझे तो मनीष भैया ने आने को बोला था।   
 

 
उल्लेखनीय है कि अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने अब तक करोड़ों की सार्वजनिक संपत्ति को खाक कर दिया है, कई ट्रेनों को जला कर राख कर दिया है,रेलवे ट्रैक और रेलवे स्टेशनो में आग लगा दी है। इससे पहले भी एसआरएएस की ओर से 16 जून को दिल्ली के आईटीओ के पास अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन किया गया था। इस दौरान 150 से अधिक लोगों को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया था।

Add Comment