वाराणसी में जुमे की नमाज शांतिपूर्वक हुई अदा, ड्रोन कैमरों से रखी निगरानी

Lokdesh Desk

बहुमंजिला इमारतों की छतों पर फोर्स। 
अग्निपथ योजना को लेकर हिंसक प्रदर्शन देख पुलिस रही अलर्ट।

भारतीय सेना में चार साल की भर्ती प्रक्रिया के तहत केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के हिंसक विरोध के बीच शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच जुमे की नमाज शान्तिपूर्ण माहौल में अदा की गईं । नमाज के सकुशल सम्पन्न होने और नमाजियों के घर लौटने पर जिला प्रशासन के अफसरों ने राहत की सांस ली। नमाज को शांतिपूर्वक सम्पन्न कराने में जिला प्रशासन के अफसरों ने रात दिन एक कर दिया। इसमें मुस्लिम धर्मगुरूओं का भी बड़ा योगदान रहा।

नमाज को देखते हुए पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश और अन्य अफसर फोर्स के साथ गोदौलिया पहुंचे। अफसरों ने मातहत अफसरों को दिशा निर्देश देने के बाद रूट मार्च भी किया। मस्जिदों के आसपास की बहुमंजिला इमारतों की छतों पर रूफ टॉप फोर्स निगहबानी करती रही। नगर के संवेदनशील इलाकों में ड्रोन से निगरानी की गई। मदनपुरा, जंगमबाड़ी और बंगाली टोला में नमाज के दौरान उस क्षेत्र के प्रतिष्ठित लोगों के साथ पार्षद, पूर्व पार्षद भी पुलिस के साथ निगरानी में डटे रहे। ज्ञानवापी मस्जिद परिसर सहित शहर और ग्रामीण क्षेत्रों की मस्जिदों में सुरक्षा के सख्त इंतजाम रहे। अतिसंवेदनशील और संवेदनशील इलाकों में पुलिस ड्रोन कैमरे उड़ा कर सुरक्षा व्यवस्था को परखती रही। ज्ञानवापी मस्जिद में पूर्व की अपेक्षा कम नमाजी आये। लगभग 350 से अधिक नमाजियों ने मस्जिद में जुमे की नमाज अदा की।

इसके लिए ज्ञानवापी मस्जिद की देखरेख करने वाली अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी, बुनकर बिरादराना तंजीम बाईसी कमेटी और जमीयत उलमा-ए-उत्तर प्रदेश (पूर्वी जोन) सहित अन्य संगठनों की अपील भी काम आई। इन संगठनों ने अपने घरों के आसपास की मस्जिदों में नमाज अदा करने की अपील लोगों से की थी। ज्ञानवापी परिसर के गेट नंबर चार से नमाजी जुमे की नमाज अदा करने ज्ञानवापी मस्जिद में पहुंचे। उसके आसपास की गलियों में गश्त के दौरान अफसरों को नमाजियों ने तिरंगा देकर अमन चैन कायम रखने में सहयोग देने का भरोसा दिया। शहर के आदमपुर, जैतपुरा, चौक, दालमंडी, नई सड़क, हड़हा सराय, बेनियाबाग और मदनपुरा, बजरडीहा आदि इलाकों में ड्रोन से निगरानी की गई।

Add Comment