पेट्रोलियम से 23 लाख करोड़ टैक्स मिला, सरकार इसका हिसाब दे : राहुल गांधी

Lokdesh Desk

 
 महंगाई के मुद्दे पर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने हो गए हैं। बुधवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केंद्र सरकार का घेराव किया तो भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा सरकार के बचाव में उतरे। राहुल ने गैस सिलेंडर की बढ़ती कीमत और डीजल-पेट्रोल के बढ़े दाम पर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार ने तेल की कीमत बढ़ाकर आम आदमी को सीधे चोट पहुंचाई है।
 
राहुल ने कहा कि सरकार कहती है जीडीपी बढ़ी है। ये जीडीपी का मतलब वह नहीं है, जो आप समझ रहे हैं, जीडीपी का मतलब है, गैस, डीजल पेट्रोल और सरकार ने पिछले 7 साल में इन तीनों की कीमतों में बढ़ोतरी की है। सरकार ने इससे 23 लाख करोड़ रुपए की कमाई की है। ये पैसे कहां गए।
 
देश को भ्रमित कर रहे राहुल गांधी: पात्रा
सरकार का बचाव करते हुए संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी जीडीपी की गलत परिभाषा बताकर देश को भ्रमित कर रहे हैं। सीएनपी का मतलब करप्शन, नेपोटिज्म और पॉलिसी पैरालिसिस है।यह लोग जीडीपी का सही अर्थ कभी नहीं समझ सकते।पात्रा ने कहा कि जब से नोटबंदी हुआ है, राहुल गांधी हमेशा परेशान नजर आए हैं। गांधी परिवार और कांग्रेस पार्टी ने नोटबंदी में बहुत रुपए खोए होंगे।
 
नकवी बोले- मुद्दे उठाकर भूल जाते हैं राहुल
सरकार का बचाव करते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि राहुल गांधी ने 7 सालों में 700 मुद्दे उठाए होंगे। वो एक मुद्दा उठाते हैं और फिर उसे भूल जाते हैं। उनकी भूलने की बीमारी ने कांग्रेस पार्टी को भूल भुलैया बना दिया है। पहले तो कांग्रेस के लोगों को उनके भूलने का इलाज कराना चाहिए।
 
छोटे दुकानदारों को नोटबंदी से नुकसान हुआ
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने पहले कहा था कि मैं नोटबंदी कर रहा हूं और वित्त मंत्री कहती रहती हैं कि मैं मॉनेटाइजेशन कर रही हूं। असल मायने में सरकार ने किसानों, मजदूरों, छोटे दुकानदार, सैलरीड क्लास, सरकारी कर्मचारियों और ईमानदार उद्योगपतियों के लिए नोटबंदी की।
 
 अन्याय के खिलाफ देश एकजुट हो रहा
राहुल गांधी ने इस मसले पर ट्वीट करके सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जनता को भूखे पेट सोने पर मजबूर करने वाला खुद मित्र-छाया में सो रहा है, लेकिन अन्याय के खिलाफ देश एकजुट हो रहा है। पेट्रोल, डीजल और एलपीजी की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर कांग्रेस सरकार पर लगातार हमलावर रही है। पार्टी की मांग है कि सरकार कुछ करों को हटाकर इन उत्पादों के दाम कम करे। 

Add Comment